जलवायु

जैसे जैसे  समुद्र ताल से ऊंचाई 800 मीटर से 8000 मीटर तक पहुंचती है जिले कि जलवायु  काफी हद तक ऊंचाई पर निर्भर करती है। सर्दियोंका मौसम नवंबर मध्य  से मार्च तक रहता  है। जैसा कि अधिकांश क्षेत्र बाहरी हिमालय की दक्षिणी ढाल में स्थित है, मानसूनी धाराएं घाटी के माध्यम से प्रवेश कर सकती हैं, मानसून अवधि में माह जून से सितम्बर तक अत्यधिक वर्षा होती है।

वर्षा –

अधिकांश वर्षा  जून से सितंबर की अवधि के दौरान होती है, जबकि  वार्षिक  वर्षा का 70 से 80 प्रतिशत  जिले के  दक्षिणी अर्ध में होता है  एवं 55 से 65 प्रतिशत उतरी अर्ध हिसे में होता है ।

तापमान –

जिले में मौसम विभाग के आंकड़ो के अनुसार सर्वोच्च तापमान 34 °C और निम्नतम  0°C  होता है । जनवरी सबसे ठंडा महीना है जिसके बाद तापमान जून या जुलाई तक बढ़ने लगते हैं। तापमान ऊंचाई के साथ भिन्न होता है पश्चिमी विक्षोभ  के कारण एवं एवं  घाटियों में बर्फ जमने से  तापमान में गिरावट आने की संभावना बढ़ जाती  है  ।

आर्द्रता –

मानसून के मौसम में सापेक्ष आर्द्रता अधिक होती है, आम तौर पर औसत से 70% से अधिक है। वर्ष का सबसे शुष्क हिस्सा मानसून की पूर्व अवधि है जब दोपहर के दौरान नमी 35% तक गिर सकती है। सर्दियों के महीनों के दौरान कुछ उच्च स्थानों  पर दोपहर में नमी बढ़ जाती है।

बादल –

  मॉनसून के महीनों के दौरान  भारी बारिश होती है और  कुछ समय के लिए  पश्चिमी हवाओं के विक्षोभ  होने से प्रभावित होता है । शेष वर्ष के दौरान आसमान सामान्य रूप से हल्के बादलों के साथ खुला  होता  हैं।